इन कारणों से कड़वे रिश्ते को ढोती हैं लड़कियां

क्‍या आपने कभी सोचा है कि हम उस अंजान शख्‍स से आखिर इतना गहरा रिश्‍ता कैसे कामयाब कर लेते हैं। कभी सोचा है कि आखि‍र हम किसी से क्यों जुड़ते हैं…? क्यों किसी से जिंदगीभर साथ निभाने का वादा करते हैं? क्यों उससे भी ऐसा ही कोई वादा लेते हैं? क्‍यों उसके साथ जीने-मरने की कसमें खाते हैं? क्‍यों प्‍यार निभाते हैं? सोचा है कभी अगर नहीं सोचा है तो क्‍यों नही सोचा….

खुशियों की चाहत ही हमें किसी के करीब लाती है। हम सभी को अपने जीवन में किसी ऐसे शख्स की तलाश होती है, जो हमें दिल की गहराई से प्यार करे। हमेशा साथ रहे। हर वक्‍त हमें दिल से याद करे। हमारी परवाह करे। हमारे लिए सोचे।High-Quality-Sad-Girls-Wallpapers

लेकिन कई बार हमारा रिश्ता उस तरह से आगे नहीं बढ़ पाता जैसा हम सोचते हैं। लड़ाई-झगड़े, गलतफहमीं और मनमुटाव के चलते रिश्ता बोझ सा लगने लगता है।

इन सबके चीजों के बाद भी ज्यादातर लड़कियां रिश्‍ते से अलग होने के बजाय इसे ढोती रहती हैं।  ऐसा करने के पीछे उनके पास कई कारण होते हैं। आईये जानते हैं कि क्‍या हो सकती हैं वो वजहें…

  • ज्यादातर मौकों पर लड़कियां ऐसे रिश्ते को इसलिए ढोती हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि ये शख्स उनका पहला प्यार है। वो अपने पहले प्यार को किसी हालत में नहीं छोड़ सकतीं। वो इस बोझ को ढोने में ही कंफर्टेबल हो जाती हैं।
  • कई बार लड़कियां ऐसे रिश्ते को ये सोचकर ढोती र‍हती हैं कि एक न एक दिन तो सबकुछ ठीक हो ही जाएगा। उन्हें लगता है कि अभी शांत रहना ही आगे के लिए अच्‍छा है।
  • कई मौकों पर लड़कियों को लगता है कि लाख बुराई के बावजूद किसी को छोड़ देना ठीक नहीं है। क्‍यों‍कि उनके सामने इंसानियत का सवाल खड़ा हो जाता है और वो अलग नहीं हो पाती हैं।
  • अमूमन लड़कियां सोचती हैं कि इस रिश्ते को यहां तक लाने के लिए उन्‍होंने बहुत कुछ इंवेस्‍ट किया है और बहुत कुछ त्‍याग किया है। ऐसे में यहां तक आकर पीछे हटने में समझदारी नहीं है। यही सोच उन्‍हें इस कड़वे रिश्‍ते से निकलने नहीं देती है।
  • लोगों की सोच का डर ये एक बहुत बड़ी वजह है। जिसके चलते एक लड़की रिलेशनशिप में सौ बुराइयों के बावजूद लड़के से अलग नहीं हो पाती है।

 




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *