India में बैन हो सकता है ये Massage App, 29 June को होगी सुनवाई

नई दिल्ली: जहां एक ओर आज देश में हर कोई सोशल मीडिया में अपने कदम रख चुके हैं। यही नहीं हर कोई फेसबुक हो या व्हाट्स ऐप पर छा चुके हैं। हर कोई व्हाट्स ऐप का दिवाना बन गया है। वहीं देश में व्हाट्स ऐप को बैन करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दाखिल कर दी गई है। सुप्रीम कोर्ट इस याचिका पर 29 जून को सुनवाई करेगा।

बमा दें कि आरटीआई एक्टिविस्ट सुधीर यादव ने ये याचिका दायर की है। इस याचिका में सुधीर ने कहा है कि व्हाट्स ऐप ने अप्रैल से ही एन्किप्रशन लागू किया है। जिससे इस पर चेट करने वालों की बातें सुरक्षित रहती हैं और यहां तक कि सुरक्षा एजेंसियां भी इन्हें डिकोड नहीं कर सकतीं। याचिका में कहा गया है कि अगर खुद व्हाट्स ऐप भी चाहे तो वह भी इन संदेशों को उपलब्ध नहीं कर सकता।

इस प्रणाली की वजह से आतंकियों और अपराधियों को संदेश के आदान-प्रदान करने में आसानी होगी और देश की सुरक्षा को खतरा भी होगा। सुरक्षा एजेंसियां इन संदेशों को मानीटर नहीं कर पाएंगी। ऐसे में व्हाट्स ऐप पर बैन लगना चाहिए। याचिका में व्हाट्स ऐप के अलावा और भी एप का जिक्र किया गया है।

याचिका में आगे यह भी कहा गया है कि एन्क्रिप्शन को सुपर कंप्यूटर से भी इंटरसेप्ट करना मुमकिन नहीं है। ऐसे में आतंकी गतिविधियों की रोकथाम के लिए सुरक्षा एजेंसियां न तो इंटरसेप्ट कर सकती हैं, न ही जांच को आगे बढ़ा सकती हैं। इसलिए व्हाट्स ऐप, वाइबर, टेलीग्राम, हाइक और सिग्नल जैसे एप्स पर रोक लगाई जानी चाहिए। वहीं इस जनहित याचिका पर 29 जून को मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस की बेंच में होगी।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *