एक लाख का इनामी नक्सली कमांडर मंटू खैरा मारा गया!!

कटोरिया। हार्डकोर नक्सली सह जोनल कमांडर मंटू खैरा को सोमवार की रात बांका पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया। पुलिस ने मंटू पर एक लाख का इनाम रखा था। यह कार्रवाही चांदन थाने के आनंदपुर ओपी क्षेत्र के पिलुआ दहिवारा के जंगल स्थित पहाड़ी पर की गयी। अभियान का नेतृत्व बांका के एसपी राजीव रंजन कर रहे थे। मुठभेड़ में एएसपी (अभियान) एल के पांडेय ने अहम भूमिका निभाई। मंटू खैरा पर तीन दर्जन से अधिक नक्सली मामला दर्ज है। मंटू खैरा बेलहर के जमुनियां गांव का रहने वाला था।

एसपी श्री रंजन ने बताया कि सोमवार देर रात गुप्त सूचना मिली थी कि हार्डकोर नक्सली मंटू खैरा अपने साथियों के साथ किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए दहिवारा जंगल की पहाढ़ी पर बैठक कर रहा है। सूचना मिलने पर एक पुलिस टीम गठित की गयी। जिसमें मुख्य रूप से एएसपी अभियान एल के पांडेय, कटोरिया थानाध्यक्ष प्रवेश भारती, सुईया थानाध्यक्ष राज कपूर कुशवाहा एवं चीता 14 एसटीएफ चांदन के कमांडेंट वरूण कुमार शामिल थे। पुलिस ने रात 2 बजे दहिवारा जंगल पहुंचकर पहाड़ी की चारों ओर से घेराबंदी कर दी। नक्सलियों पहुंचने की भनक मिलते ही नक्सलियों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की। लगातार तीन घंटे की गोलीबारी के बाद नक्सलियों की ओर से फायरिंग बंद हो गयी। तब तक सुबह हो चुकी थी। पुलिस ने पहाड़ी पर तलाशी अभियान शुरू किया तो पहाड़ी पर काफी खून के धब्बे मिले। आगे बढ़ने पर पुलिस ने एक नक्सली का शव बरामद किया गया। नक्सली की पहचान मंटू खैरा के रूप में हुई।

घटनास्थल के पास दो एसएलआर, एक एके 47 रायफल, 42 राउंड जिंदा कारतूस, मैगजीन, डेटोनेटर, दो मोबाइल फोन, भारी मात्रा में नक्सली साहित्य व महत्वपूर्ण दस्तावेज, लेवी रसीद, पूर्वी रीजनल ब्यूरो के सांगठनिक रिपोर्ट की कॉपी सहित गोरिल्ला आर्मी सहित तीन तरह के पीएलजीए बैच बरामद किये गये।

एसपी के अनुसार नक्सलियों की संख्या 12 बतायी जा रही है। खून के धब्बे के को देखकर अनुमान है कि पांच-छह नक्सली मुठभेड़ में घायल भी हुए होंगे। एसपी ने बताया कि मंटू खैरा की पुलिस को कई कांडों में तलाशा थी। वह बांका, जमुई, गिरीडीह सहित कई जिलों में नक्सली वारदातों को अंजाम दे चुका था।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *