देश में 65,250 करोड़ की Black Money आई सामने, Government ने कहा फुटपाथ वालों के पास भी था करोडों का कालाधन

New Delhi: Central Government की आय घोषणा Scheme के तहत देश के 64,275 लोगों और फर्मों ने 65,250 करोड़ रुपये के Black Money का खुलासा किया है। इससे Central Government को Tax और Penalty के तौर पर 29,362 करोड़ रुपये हासिल होंगे। India में Black Money की अब तक यह सबसे बड़ी घोषणा है।

Finance Minister Arun Jately ने शनिवार को एक Press Conference में आय घोषणा Scheme (आईडीएस) के तहत घोषित Black Money की जानकारी दी। 30 सितंबर को खत्म हुई योजना के बाद जब अंतिम तौर पर Online Return और Manual Filing का हिसाब होगा तो यह रकम इससे भी ज्यादा हो सकती है।

IDS के तहत घोषित रकम का खुलासा करते करते हुए Finance Minister ने कहा कि इस मामले में पूरी गोपनीयता बरती जाएगी। हम Black money की घोषणा करने वालों के नाम उजागर नहीं करेंगे। इस मद में हासिल Tax और Penalty की रकम भारत की समेकित निधि में जाएगी और यह लोगों के कल्याण पर खर्च होगी।

बहरहाल, अब तक की Filing से इस वित्त वर्ष में Central Government को टैक्स के तौर पर 14,700 करोड़ रुपये मिलेंगे। Central Government ने काला धन रखने वालों को अपनी संपत्ति के खुलासे के लिए वन टाइम चांस दिया था। जिन लोगों ने अपने Black Money का खुलासा किया है, उन्हें रकम का 45 फीसदी टैक्स और जुर्माने के तौर पर चुकाना पड़ा है। कुल मिलाकर अब तक Central Government को इस मद में 29362 करोड़ रुपये हासिल होने वाले हैं। आधी रकम यानी 14,681.25 करोड़ रुपये इसी वित्त वर्ष में मिलेंगे।  वित्त मंत्री ने कहा कि आयकर विभाग की ओर से छापे-सर्च-ऑपरेशन के दौरान 56378 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति का खुलासा हुआ है।

पिछले साल विदेश में जमा Black Money की घोषणा से जुड़ी स्कीम के तहत 644 लोगों ने अनाम विदेशी जगहों पर जमा धन का खुलासा किया था। Central Government को इससे टैक्स के तौर पर 2,428 करोड़ रुपये मिले थे।  वर्ष 1997 में तत्कालीन पी. चिदंबरम ने स्वैच्छिक आय घोषणा स्कीम यानी वीडीआईएस लांच की थी और इससे Central Government को टैक्स के तौर पर 9,760 करोड़ रुपये की कमाई हुई थी। जेटली ने कहा कि वीडीआईएस और आईडीएस की तुलना नहीं हो सकती क्योंकि दोनों स्कीमें अलग हैं। आईडीएस माफी योजना नहीं है। जबकि वीडीआईएस माफी योजना थी। आईडीएस के तहत 45 फीसदी टैक्स लगाया गया। जबकि वीडीआईएस में एक अंक की दर से टैक्स लगाया गया था।

फुटपाथ पर दुकान लगाने वालों के पास भी मिला करोडों का काला धन

IDS के तहत ऐसे-ऐसे लोगों ने करोड़ों के Black Money की घोषणा की है सुन कर दंग रह जाएंगे। मुंबई के फुटपाथ पर खाना बेचने वाले एक वेंडर ने 50 करोड़ रुपये के Black Money का खुलासा किया है। घाटकोपर में एक जूस बेचने वाले ने 5 करोड़ रुपये की नकदी और जमीन के दस्तावेजों की जानकारी दी। कुछ वेंडरों ने 25 लाख से लेकर 2 करोड़ रुपये तक काला धन घोषित किया है। फुटपाथ वेंडरों को टैक्स के तौर पर 22.5 करोड़ रुपये जमा करने होंगे।

 58,000 करोड़ की ब्लैकमनी बाहर

Jately ने बताया कि HSBC और बाहर के देशों में कुल 58,378 करोड़ रुपये की ब्लैक मनी का पता चला है। कुल 1986 करोड़ रुपये कैश बरामद किए गए हैं। एचएसबीसी के मामले में 8000 करोड़ रुपये की Black Money का असेसमेंट हो चुका है। गौरतलब है कि खोजी पत्रकारों के एक अंतरराष्ट्रीय कंसोर्टियम ने कहा है कि एचएसबीसी ने अपने ग्राहकों को हजारों करोड़ की Tax चोरी में मदद की है।

Important Point

  1. 65,250 करोड़ रुपये का काला धन घोषित
  2. 64,275 लोगों और फर्मों ने किया खुलासा
  3. घोषित Black Money पर 45 फीसदी टैक्स
  4. एचएसबीसी और बाहर के देशों में 58000 करोड़ का काला धन
  5. घोषित Black Money से Central Government के खाते में आएंगे  29362 करोड़
  6. यह देश की जीडीपी की 0.2 फीसदी रकम
  7. एचएसबीसी की सूची में 8000 करोड़ का असेसमेंट पूरा 
  8. घोषित धन भारत की समेकित निधि में जमा होगा
  9. इससे लोगों के लिए कल्याणकारी योजनाएं चलाई जाएंगी




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *